Wednesday, April 13, 2011

एक छोटा सा पल

एक छोटा सा पल अटका हुआ है साँसों में,
एक छोटा सा पल, गुजरता नहीं है सदियों से,
कुछ पल एक और बार मेरे नाम हो जाये,
मेरी सुबहें तुमसे और तुम्ही से शाम हो जाए,
फिर पलों को गुन्थो तुम, मेरी चोटी में,
फिर यादें फेंको तुम, मेरे इस दामन में,
दो पल का साथ तुम्हारा, मेरे सारे सपने सच कर देगा,
मेरी वीरानी में एक ख़ास रंग भर देगा!

No comments:

Post a Comment