Thursday, April 21, 2011

पुरानी पोटली

पुरानी पोटली में कुछ सामान मिला है,
कुछ अनकही बातें मिली हैं,
कुछ अनबुझी यादें मिली हैं,
एक धूप से सफ़ेद कागज़ पर तेरा नाम मिला है,
एक तस्वीर मिली है कुछ जानी पहचानी सी है,
शायद उस सपने की है, जो हमने साथ देखी थी!
गुज़रे लम्हों की अनगिनत यादें समेटकर,
एक लिफ़ाफ़े पर तुम्हारा नाम लिखकर,
तुम्हारे दर पे छोड़ जाउंगी,
गर आये मेरी याद तो मुझे बुलाना,
गर लगे एक चुभता सपना तो बेशक भुला देना…

2 comments:

  1. ye tumhahara naya awtaar hamse itna anjaana sa tha, Ab jaa ke jana, Well Done.....RD

    ReplyDelete
  2. shukriya ji! Chandani

    ReplyDelete