Wednesday, April 27, 2011

तुम

तुम्ही से सीखा मैंने मुस्कुराना,
तुम्ही से जाना है दिल  का लगाना,
तुम्हे माना है अपना सीर्फ अपना,
तुम्ही से पूरा हुआ मेरा हर एक सपना,



No comments:

Post a Comment