Thursday, May 5, 2011

थोडा सा प्यार

कुछ सांस मुझको उधर दे दो ना,
कुछ खास अब तो मेरे यार दे दो ना,
एक ख्वाब देखा था जो हमने साथ में कभी,
उनका यकीन फिर से एक बार दे दो ना,

मेरे यार मुझको थोडा सा प्यार दे दो ना
फिर लौट आओ तुम मेरे इस जीवन में,
फिर गुनगुनाओ तुम मेरे हर एक पल में
फिर मुझसे मेरी नींदें चुरालो तुम
फिर मुझको एक बार करार दे दो ना,
मेरे यार मुझको थोडा सा प्यार दे दो ना
उम्मीदों की हैं घड़ियाँ अब तो बस थोड़ी सी बची,
मेरी साँसों की लडियां अब तो हैं बस थोड़ी सी बची
वो वादे याद कर लो, तुमको कसम एक बार दे दो ना
मेरे यार मुझको थोडा सा प्यार दे दो ना

No comments:

Post a Comment