Monday, August 29, 2011

तेरी नज़रों में, मेरी कीमत क्या है,
औरों को छोड़, ये बता, मेरी ज़रुरत क्या है,
तुझसे शिकवा भी नहीं कर सकती, और शिकायत भी नहीं,
तेरे लब पे भूले से आए नाम मेरा, ऐसी अपनी किस्मत भी नहीं!

No comments:

Post a Comment