Friday, September 16, 2011

तेरी सूरत

मेरे  दिल  पे  छपी  जो  एक,  महज़  तस्वीर  है  शायद ,

तेरी  सूरत  जो  है  वो  ही,  मेरी  तक़दीर  है  शायद ,



ये  है  ख़ुशबू   के या .. हवा का एक झोका ,  ये  बता  दे  तू ,

तुझे  छू  कर  जो  गुजरी  उस  हवा  को  मोड़  दे  बस  तू ,



तू  है  एक  ख़ाब  या  के  एक  सच्चाई  की  है  मूरत ,

तू  जो  है , जैसा  है , मेरे  लिए  बस  तू  ही  है  शायद ,



कई  दिन  से  इन   गलियों  में  छुपकर  चाँद  बैठा  है ,

मेरे  दिल  को  यकीं  है  एक  तुझसे  छुप  के  बैठा  है ,

कहीं  उससे   तू  ले  के  धूप  अपनी  चल  न  दे  वापस ,

वो  जो  तेरा  है , तेरी  शक्सियत  का  एक  हिस्सा  है ,



वो  एक  ही  खौफ  दिल  में  जाने  कबसे  घुस  के  बैठा  है ,

कई  सालों  से  वो  जाता  नहीं , बस  छुप  के  बैठा  है ,

के  तू  एक  दिन  मुझे  छोड़ेगा  मुझको  भूल  जाएगा ,

मेरा  दिल  तोड़कर  तू  अपनी  एक  दुनिया  बसाएगा ,



कहीं  ऐसा  न  हो , तू  रूठकर  चल  दे  कहीं  ज़ालिम ,

मेरे  होने  न  होने  से  तुझे  जो  फर्क  पड़ता  है ,

वो  एक  एहसास  जो  दरमियान  है , वो  ग़ुम  हो  जाए  न

कहीं   कोई  बेवफा  तुझसे   मेरा  दामन  छुडाए  न ,



के  जब  के  आज   भी  मुझको  यकीं  है  अपनी  किस्मत  पे ,

तेरी  सूरत  जो  है  वो  ही  मेरी  तक़दीर  है  शायद ,

No comments:

Post a Comment