Monday, September 19, 2011

यहाँ से ले चलो

बस  और  नहीं ….नहीं  सह  सकती  और  ज्यादिती   इस  दुनिया  की , ले  चलो  मुझे  यहाँ  से  कहीं  दूर , इतनी  दूर  जहाँ  मुझे  जाननेवाला  कोई  न  हो , जहाँ  मेरे  ज़ख्म  कुरेदनेवाला  कोई  न  हो , जहाँ  इस  दर्द  को  बढ़ानेवाला  कोई  ना  हो!!

 हर  बार  तुम  गए , ये  कहके   के  जल्द ही  लौटूंगा , पर  नहीं ऐसा कभी नहीं हुआ, तुमने  हमेशा  देर  की , अब  बस , इस  बार  आए  हो  तो  मुझे  छोड़के  मत  जाना , मुझे  अपने  साथ  ले  जाना , मुझको  मेरी  हस्ती  समेटनी   है  इस  अनजाने  शहर  में  जो  बिखरी  पड़ी  है  यहाँ  वहां , तुम्हारे  जाने  और  आने  के  फासले  ने  मेरी  तो  जैसे  ज़िन्दगी  ही  बदल  दी , अब  और  बर्दाश्त  नहीं  होता , दम  घुटता  है  इन  लोगों  के  बीच , ये  सब  फरेबी  हैं , ले  चलो  मुझे , समंदर  पार  ले  जाना , वहां  दोनों  मिलके  अपनी  दुनिया  बसाएँगे , वो  ख्वाब  जो  बरसों  से  सूनी  आँखों  में  पल  रहे  हैं , उनकी  कसम  है  तुम्हे , मुझे  अपने  साथ  ले  चलो , उन्  ख्वाबों  को  एक  बार , सीर्फ  एक  बार  सच  होने  दो , ले  चलो  मुझे …यहाँ  से  ले  चलो !!

No comments:

Post a Comment