Monday, October 17, 2011

बस यूँ ही

तुझसे  शिकवा  भी  नहीं  और  शिक़ायत  भी  नहीं,
मेरी  सांसों  को  तेरी  और   ज़रुरत  भी  नहीं,
तेरे  बिन  हमने  गुज़ार  दी  सदियाँ,
तू  जो  एक  बार  देख  ले  तो  जी  उठे  धड़कन,
एक  ही  शाम  में  ये  सांस  मेरी  पूरी  हो ,
खाब  तो  खाब  हैं, अब  इनसे  शिक़ायत  भी  नहीं,

No comments:

Post a Comment