Monday, October 24, 2011

फासला

अपनी ख्वाहिशों के आसमान पर हम यूँही चलते रहे ,
चलते चलते अपनी ही मंजिल से फासला तय करते रहे !

No comments:

Post a Comment