Monday, October 24, 2011

साथ

सबकुछ छूट गया है पीछे, कोई नहीं है बाँहों में,
साथ भी उसने छोड़ा अपना, जब उतरे हम मझधार में!

No comments:

Post a Comment