Thursday, October 20, 2011

ज़िन्दगी

ज़ख्मों  को  कुरेदने  का  अपना  ही  नशा  होता  है ,
माज़ी  में  डूबने  का  कुछ  और  मज़ा  होता  है ,
जिनके  सीने  पर  रख  के  सर  रोया  किये  बरसों ,
आज  उनकी  ही  बेवफाई  पे  हंसने  का  मज़ा  आता  है ,
मुस्कुराते  हैं  जो  अपने  ग़मों  के  मौसम  में ,
उनको  ही  ज़िन्दगी  जीने  का  मज़ा  आता  है!

No comments:

Post a Comment