Wednesday, March 7, 2012

तेरी गली

हर दफ़ा तेरी गली से गुज़रते हैं हम
राह मुड़ते नहीं, बस अपना रुख़ मोड़ते हैं हम!

No comments:

Post a Comment