Monday, September 24, 2012

हम हमजुबां न सही हमख्याल तो थे, ये भी क्या कम था ज़िन्दगी साथ बसर करने के लिए!


No comments:

Post a Comment