Wednesday, September 19, 2012

डर

मुझको मेरी ही मायूसियों से डर लगने लगा है,
मुझको तेरी हर दिल्लगी से डर लगने लगा है,
ज़िन्दगी ने दिये हैं इतने ग़म मेरी झोली में,
के अब तो ख़ुशी के नाम से डर लगने लगा है!

No comments:

Post a Comment