Tuesday, September 3, 2013

बौना प्यार



मैंने सोचा था तुम्हारे लौट आने से सब ठीक हो जाएगा..
हवाएं अपना रुख लेंगी,
पंछी अपने घोसले को लौटेंगे,
ज़िन्दगी में सुकून लौट आएगा,
और मेरे होठों पर मुस्कुराहटें थिरकेंगी....
मगर ऐसा कुछ भी न हुआ जान,
शायद वक़्त के थपेड़ों के आगे तुम्हारा प्यार बौना पड़ गया है..

2 comments: