Friday, April 25, 2014

तुलना....

सुनो,
तुम मुझसे तुलना न करना,
अतुल्य हैं कई जीव इसी पृथ्वी पर....
इस सत्य को जानना ज़रूरी है, 
तुम्हारे परखने से, और मेरे हार मान लेने से,
मेरी हार नही है, 
मेरा जीवन नहीं तुम्हारी बनायी कसौटियों पर खड़ा उतरने के लिए,
कि मैं बनी हूँ इस पृथ्वी पर कुछ ऐसा करने के लिए जो अतुल्य है...
इसिलए तुम मुझसे तुलना न करना...

“बहुत हुआ रोना धोना.. अब हम मुस्कुराएंगे,
ज़िन्दगी गुजारते तो सब हैं...हम जीकर दिखाएंगे..”

No comments:

Post a Comment