Friday, July 31, 2015

बस यूँ ही...

खामोश ज़िन्दगी है अल्फ़ाज़ चाहिए, 
मुझको मेरे ग़मों से निजात चाहिए..

No comments:

Post a Comment